कहानी

जब कभी हम कोई कहानी या उपन्यास पढ़ते है तो अक्सर अपने आप को उससे जुड़ा पाते है। किसी चरित्र या पात्र से स्वयं के साथ समानता देखने या ढूंढने लगते है। ये मेरा अपना अनुभव तो नही पर कुछ किताबें पढ़ने वाले मित्रों द्वारा साझा किये गये विचार इन पंक्तियों में प्रस्तुत करने की कोशिश की है।

क्या यह कहानी मेरी है?
जो किसीं ने कागज़ पर स्याही से उकेरी है।
मैंने पूरी पढ़ी तो नहीं,
पर प्रस्तावना तो बिलकुल मेरी है।

क्या यह भी है उलझी पहेली?
जो लगती तो सीधी-सच्ची सहेली।
क्या इसमें भी है किस्से वैसे,
मेरी जिंदगी के जो हिस्से है?
क्या यह मेरा अतीत है,
या फिर संजोये है भविष्य?

आखिर है किसकी कहानी,
क्यूँ लग रही इतनी घनिष्ट,
किसने गड़ी है मेरी कहानी,
क्यूँ चलाई अपनी कलम?

इसमें है क्या अंत मेरा,
या होगी शुरवात नयी?
क्या होगा कल सवेरा,
या अमावस रात वही?

मुझे जानता है क्या लेखक,
या नही वो मुझसे अलग?
क्या गुज़री है उस पर भी,
जो मैंने भी ज़िंदगी में सही?

कैसे वो किरदार,
मेरे अनुभव से सीख लेता है?
मुझे उसकी आँखों से,
गलती करते देख लेता है?

मैं मूक रह जाता हुँ,
जब कभी दोहराता वही कर्म।
अपने आप मे लजाता,
खुद को बदलने में लग जाता हूँ।

बचपन मे पढ़ा था,
कहानी से हमे शिक्षा मिलती है।
जो शिक्षा दे कहानी वही है।

Advertisements
This entry was posted in Poetry and tagged , , , . Bookmark the permalink.

One Response to कहानी

  1. Himanshu dongre says:

    Pratham…..hamesha ki tarah sunder panktiyan……bhavpurn evam arthpurn……

    Dvitiy……kuch had tak mai bhi sahmat….
    Bahut si kahaniyon evam rachnao ko padhkar kahin na kahin mujhe bhi esa mahsus hota hai ki shayad kahin na kahin mujhse ya mere jivan se judi hai……

    Aap ki kavitaon ko padhkar hamesha ye mahsus hota hai mujhe ki ya to vo current affairs pe hoti hai ya apno ke jivan se judi chizo pe….isliye apni si lagti hai…
    Really appriciate once again😊👍👌

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s