Monthly Archives: February 2017

दर्द

पिछले कुछ समय से दर्द के साथ समय बिताते हुए उसके भिन्न-भिन्न पहलुओं को एक दर्द निवारक मल्हम के विज्ञापन व हास्य रस के दिवंगत श्रेष्ठ कवि पंडित ओम व्यास जी की रचना से प्रेरणा लेकर अपनी इन पंक्तियों में … Continue reading

Posted in Poetry | Tagged , , | Leave a comment

अपने पे बीती…

दो दिन पहले घटी छोटी सी दुर्घटना का विवरण अपने इंदौरी भिया को बताते हुए… अब क्या बताएं भिया, आज तो जो फैले है कि पूछो मत, सड़क पे ऐसे लोटे के उठे मत। किसी भेरू के चक्कर में अपन … Continue reading

Posted in Poetry | Tagged , | 3 Comments