Monthly Archives: October 2016

यंत्र है या तंत्र?

मेरे मन में एक प्रश्न अधिकतर उठता रहता है के आखिर आज हम किस परिस्थिति में जीवन-यापन कर रहे है। जिन वस्तुओं का अविष्कार हमारी सुविधा के लिये हुआ, आज उन्ही के कारण जीवन दूभर हो गया है। मेरी यह … Continue reading

Posted in Poetry, Writing | Tagged | 1 Comment