गर्जना है सिंह की…

गर्जना है सिंह की, यह सैन्य बल प्रमाण है।
शांति-दूत कृष्ण का स्वरुप शक्तिमान है।।

रण में राष्ट्रवीर के रक्त का उबाल है।
आतंक के अंत का अखण्ड अभियान है।।

गर्जना है सिंह की…

यह मात्र प्रतिशोध नहीं, शत्रु को पढ़ाया पाठ है।
धर्म युद्ध-यज्ञ में आहुति के स
मान है।

गर्जना है सिंह की…

सयंम की परास का यह अंतिम विराम है।
मातृभूमि की रक्षा का प्रण लिया अविराम है।

गर्जना है सिंह की, यह सैन्य बल प्रमाण है।
शांति-दूत कृष्ण का स्वरुप शक्तिमान है।।

Advertisements
This entry was posted in Poetry, Writing and tagged . Bookmark the permalink.

9 Responses to गर्जना है सिंह की…

  1. Himanshu dongre says:

    Bahut hi sunder rachna……veer ras se paripurn….isme hamare sahsi shahido ka smaran bhi hai…..aaj huve yuddh or sahas ko protsahan bhi hai….hamare sanyam ki parakashtha ko bhi bataya hai aapne…or hamara matrbhumi prem bhi hai…
    Jai hind….
    Aaj ki jeet ki khushi ko doguna kar diya aapne….

  2. Well wrote…..True to every word and a poem that fills you with Pride

  3. Devesh says:

    Bhut sundra

  4. Salim says:

    Awesome dude!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s