Monthly Archives: April 2014

चुनाव !

आज के इस चुनावी परिपेक्ष मे हर व्यक्ति का अपना राजनीतिक मत है, या कहुँ तो वो किसी न किसी राजनीतिक दल का समर्थन कर रहा है । जहा राजनीति की बात होती है वहा भेद-भाव, आरोप-प्रत्यारोप आम बात है … Continue reading

Posted in Writing | Tagged , , , , | 3 Comments

अप्रैल फुल

फुलो मे फुल है अप्रैल फुल, बेवकुफी कि महक और मस्ती का चुल… फोकट मे मिलता हैं इसका परफ्युम, पुरे साल चलता है ये एक दिन का सुरुर… कोइ भी दे जाता हैं आँखो मे धुल, बच्चा या बुड़ा हों … Continue reading

Posted in Poetry, Writing | Tagged , , , , , | Leave a comment