Monthly Archives: February 2014

Alone!

I walk alone, I talk alone, I laugh alone, I cry alone, Hey what’s wrong, am all alone… Am home alone, I roam alone, I eat alone, I sleep alone, What’s going on, am all alone… I sing alone, I … Continue reading

Posted in Poetry, Writing | Tagged , | Leave a comment

आया वसंत आया वसंत…

माँ सरस्वती की अनुपम कृपा से बसंत पंचमी के इस पवन पर्व पर मन के कुछ भाव इन पंक्तियों में अलंकृत करने का प्रयास किया है । अंग-अंग में मेरे जागी उमंग, आया वसंत आया वसंत । पंचम की राग … Continue reading

Posted in Poetry | Tagged , , , | Leave a comment