कहानी

बूंदों के बादल,
भीगे से आँचल,
आँखों में नमकीन पानी,
सिसकी सी सांसो की कहानी ।

वो मस्ती की यादें,
हर सस्ती सी बातें,
कुछ खास सी लगती,
अब अनमोल हर कहानी ।

बातों ही बातों में,
कुछ कर के दिखाना,
दुनिया को बताना,
सपने आँखों में सजाना ।

उनकी नजरो से नज़रे मिलाना,
या नज़रे चुराना,
ना-ना की रट लगाना,
दिल ही दिल उसे झुटलाना ।

बिना कहे ही सब कुछ समझ जाना,
ये आज कितना अजीब लगता है,
भले ही सब कुछ हो बचकाना,
पर सबसे हसीं पल लगता है ।

Advertisements
This entry was posted in Poetry and tagged , . Bookmark the permalink.

3 Responses to कहानी

  1. Welcome to the blogosphere 🙂
    Nice post!

  2. उनकी नजरो से नज़रे मिलाना,
    बिना कहे ही सब कुछ समझ जाना..
    है कुछ खास सी लगती, ये दिल की कहानी ।।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s