Monthly Archives: October 2013

मंजिलो की चाह में…

मंजिलो की चाह मे… राह मे तालाशने… अकेला चल पड़ा हूँ मैं… दूरियों को पाटने… ज़हन मे कई सवाल है… आँखों मे मलाल है… साथ अब कोई नहीं… फिर भी किसी के इंतज़ार मे… कही निकल पड़ा हूँ मैं… इस ऊचे … Continue reading

Posted in Poetry | Tagged , | Leave a comment

कहानी

बूंदों के बादल, भीगे से आँचल, आँखों में नमकीन पानी, सिसकी सी सांसो की कहानी । वो मस्ती की यादें, हर सस्ती सी बातें, कुछ खास सी लगती, अब अनमोल हर कहानी । बातों ही बातों में, कुछ कर के … Continue reading

Posted in Poetry | Tagged , | 3 Comments